Thursday, 17 October 2013

दौलत के झूठे नशे में हो चूर -गरीबों कि दुनियां से रेहते हो दूर

No comments:

Post a Comment